के नैना तरस गए

ke-naina-taras-gaye

कभी तो नजर आओ हमे
के नैना तरस गए
कभी तो खिलने दो बहारे
के बादल बरस गए

जो तुम्हे देखू तो मिलता सुकून
जो तुम देखो मेरी तरफ तो कही और न देखू
पर कभी तो नजरे मिलाओ नजरोँ से
के नैना तरस गए

जो तुम बात करो हमसे
हम बातोँ मे खो जाए
जो सोचू जब भी तुम्हारे बारे मे
हम रातो मे भी न सो पाए
पर कभी तो कोई ख्वाब सजने दो
के नैना तरस गए

जो कभी तुम हमारे पास आओ
हम सारी दुनिया भूल जाए
जो कभी तुम हात मिलाओ हमसे
हमे सारी खुशियाँ मिल जाए
पर कभी तो कदम रखो इस राह पर
के नैना तरस गए

जो कभी तुम करो आँखोँ से इशारा
हम वही इजहार-ए-मोहब्बत कर जाए
जो तुम कर दो ‘हाँ’ हमसे
हम खुशी के मारे मर जाए
पर कभी तो आँखोँ से कोई इशारा होने दो
के नैना तरस गए

प्रतिक अक्कावार

शब्दांची भावना आणि विचारांशी सांगड घालून शाब्दिक कलाकृती निर्माण करणारा असाच एक.

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.